पाठ संस्करण red blue grey
hindi

संवर्धन

आवास वित्त कंपनियों का संवर्धन एवं विकास

राष्ट्रीय आवास बैंक की उचित उधार कार्य प्रणाली संहिता

 

वर्तमान में, राष्ट्रीय आवास -बैंक लोक अभिकरणों को प्रत्यक्ष वित्त के माध्यम से और प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों अर्थात् आवास वित्त कंपनियों, अनुसूचित वाणिज्यिक -बैंकों, अनुसूचित सह्कारी -बैंकों, क्षेत्रीय ग्रामीण- बैंको, शीर्ष सह्कारी आवास समितियों/संघों को उनके आगामी उधार ह्तु पुनर्वित्त सहायता देता है् । राष्ट्रीय आवास बैंक व्यैक्तिकों को सीधे कोई वित्तीय सहायता नही प्रदान करता है् ।

प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को अप्रत्यक्ष वित्त के लिए पुनर्वित्त सह्याता के रूप में और प्रत्यक्ष वित्त सह्याता के लिए पृथक उचित व्यवहारा संह्ता अंगीकार की है जो निम्न प्रकार से है :-

I. प्रत्यक्ष वित्त के लिए उचित व्यवहार संह्ता

1. ऋणार्थ आवेदन एवं उनकी प्रक्रिया

i) राष्ट्रीय आवास -बैंक(रा.आ.-बैंक) ऋण आवेदन की प्राप्ति की तारीख के प्रमाणस्वरूप ऋण आवेदन की प्राप्ति पर भावी उधारकर्ताओं को सात दिनों के भीतर एक पावती देगा ।

ii) यह् सुनिश्चित किया जाएगा कि ऋण आवेदनों का साधारणतया: सत्यापन आवेदनों की प्राप्ति से 21 दिनों के भीतर कर लिया जाए और यदि ऋण मूल्यांकन के उद्देश्य से कोई अतिरिक्त विवरण/दस्तावेज़ आवश्यक होता है तो उधारकर्ता को तत्काल इसकी सूचना दे दी जाएगी ।

2. ऋण का मूल्यांकन एवं नियम/शर्तें

i) यह् सुनिश्चित किया जाएगा कि उधारकर्ताओं की ऋण अपेक्षा का उचित मूल्यांकन हो् । ऋण की जो राशि संस्वीकृत की जाती है, ऋण नीति के अनुसार ह्गी तथा मार्जिन की शर्तें तथा प्रतिभूति उधारकर्ता की सम्यक तत्परता और ऋण विश्वसनीयता पर आधारित ह्गी ।

ii) रा.आ. -बैंक संस्वीकृति की शर्तें उधारकर्ता को सूचित करेगा तथा उधारकर्ता के पूर्ण ज्ञान के साथ दी गई संस्वीकृत शर्तों की स्वीकृति अभिलेख में रखेगा ।

iii) रा.आ.-बैंक द्वारा संस्वीकृत की गई ऋण सुविधाओं को अभिशासित करने वाले नियम एवं शर्तों तथा अन्य आपत्ति-सूचनाओं, जिनका निर्णय उधारकर्ता के साथ बातचीत करने के बाद किया गया है, को ऋण करार के प्रपत्र में लिखित रूप में किया जाएगा । ऐसे करार की प्रति उधारकर्ताओं को उनके अभिलेखार्थ उपल-ध कराई जाएगी और उनसे पावती ली जाएगी ।

iv) संघीय सह्याता व्यवस्था के अधीन उधार देने के मामले में, भागीदार ऋणदाता संभव अवस्था तक, एक निश्चित समय में प्रस्तावों का मूल्यांकन पूरा करने के लिए एक क्रियाविधि विकसित करेंगे और एक उपयुक्त समय के भीतर, वित्तपोषण पर अथवा अन्यथा उधारकर्ता को अपना विनिश्चय संसूचित करेंगे ।

3. नियम एवं शर्तों में परिवर्तनों सह्ति ऋणों का संवितरण

i) रा.आ. -बैंक द्वारा संस्वीकृत ऋणों का समय से संवितरण इस शर्त के अध्यधीन सुनिश्चित करेगा कि उधारकर्ता पूर्ववर्ती शर्तों को पूरी करेगा, संवितरण की उस प्रक्रिया का अनुपालन करेगा, जो उधारकर्ता को अग्रिम सूचित कर दी जाएगी ।

ii) उधारकर्ताओं को -याज दरों सह्ति नियम एवं शर्तों में किसी प्रकार के परिवर्तन की अग्रिम सूचना दी जाएगी । ब्याज दर और अन्य प्रभारों में किसी प्रकार की वृद्धि केवल भविष्यलक्षी प्रभाव से की जाएगी । यह् उनको, जो विनियामक/सरकारी प्राधिकरणों की ओर से अधिरोपित है, को छोड़कर की जाएगी जो पृष्ठ-दर-पृष्ठ आधार पर ह्गी ।

4. संवितरणोत्तर पर्यवेक्षण

i) रा.आ. -बैंक द्वारा संवितरणोत्तर पर्यवेक्षण इस प्रकार से किया जाएगा कि ऋणदाता से संबधित किसी वास्तविक ऐसी कठिनाई पर ध्यान दिया जा सके जिसका सामना उधारकर्ता को करना पड़े ।

ii) (ऋण करार के अधीन भुगतान वापस लेने/तेज़ करने अथवा अतिरिक्त प्रतिभूतियां मांगने अथवा आगामी संवितरण निलम्बत करने के निर्णय की सूचना देगा )। रा.आ. बैंक उधारकर्ताओं को उतनी अवधि की, जितनी कि ऋण करार में विनिर्दिष्ट की जाए अथवा किसी उचित अवधि के भीतर, यदि उसमें ऐसा कोई प्रावधान नही है, देगा ।

iii) पुनर्भुगतान की अनुसूची उधारकर्ता को पुनर्भुगतान प्रारम्भ ह्ने से पह्ले ही् भेज दी जाएगी । एक मांग सूचना, सामान्यतया: उधारकर्ता को किस्त के पुनर्भुगतान की देय तारीख से 15 दिन पह्ले भेज दी जाएगी ।

iv) यह् सुनिश्चित किया जाएगा कि रा.आ. -बैंक को प्रभारित प्रतिभूतियां पूर्ण संतुष्टि/ऋण के वसूले जाने पर छोड़ी जाती है।

II. पुनर्वित्त के ज़रिए अप्रत्यक्ष वित्त के लिए उचित कार्यप्रणाली संह्ता

1. प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को वार्षिक ऋण सीमा की मंज़ूरी

i) प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों की ओर से वार्षिक पुनर्वित्त सीमा की मंज़ूरी के आवेदन की पावती उसके प्राप्त ह्ने की तारीख से सात दिनों के भीतर दे दी जाएगी ।

ii) आवेदन प्रपत्र में विसंगतियों और अतिरिक्त सूचना/स्पष्टीकरण की सूचना प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को एक बार में और प्राप्ति के 21 दिनों के भीतर भेज दी जाएगी ।

iii) वार्षिक सीमा की मंज़ूरी के लिए प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों के अनुरोध का आकलन रा.आ. -बैंक की वर्तमान नीति के अनुसार किया जाएगा ।

iv) वार्षिक सीमा की मंज़ूरी की सूचना सक्षम प्राधिकारी के अनुमोदन के बाद दी जाएगी ।

2. पुनर्वित्त/वित्तीय सह्यातार्थ प्रलेखन

i) मंज़ूरी के नियम एवं शर्तों के पूर्ण प्रकटीकरण सह्ति मंज़ूरी की सूचना प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को दे दी जाएगी ।

ii) मंज़ूरी के नियम एवं शर्तों का प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों द्वारा स्वीकृति अभिलेख में रखा जाएगा ।

iii) प्राथमिक ऋणदाता संस्थान नियम एवं शर्तों और पुनर्वित्त/वित्तीय सह्याता को अभिशासित करने वाली अन्य आपत्ति सूचनाओं में आशोधन का अनुरोध कर सकते है। अन्तिम रूप से स्वीकार कर लिए गए नियमों/शर्तों तथा अन्य आपत्ति सूचनाओं को तत्काल लिखित रूप में प्रस्तुत किया जाएगा । इस पर राष्ट्रीय आवास बैंक/प्राथमिक ऋणदाता संस्थान के प्राधिकृत अधिकारियों के ह्स्ताक्षर ह्गें ।

iv) सभी सुसंगत करारों की एक प्रति प्राथमिक ऋणदाता संस्थान को उपल-ध कराई जाएगी ।

v) समय से प्रलेखन पूरा करने में पूरा सह्योग प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को उनकी ओर से सभी अपेक्षाओं की प्राप्ति के अध्यधीन दिया जाएगा ।

3. संवितरण और निधियों के संवितरणार्थ आवेदन संबधी प्रक्रिया

i) पुनर्वित्त के आवेदन पर कार्रवाई सात दिनों के भीतर कर ली जाएगी । निर्धारित समय के भीतर आवेदन पर कार्रवाई नही किए जाने की स्थिति में प्राथमिक ऋणदाता संस्थान को तदनुसार अवगत रखा जाएगा ।

ii) दावा प्रपत्र में विसंगतियां या अतिरिक्त जानकारी, यदि कोई है, के अनुरोध की सूचना प्राथमिक ऋणदाता संस्थान को तुरन्त दे दी जाएगी ।

iii) प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को -याज दरों सह्ति नियमों एवं शर्तों में किसी परिवर्तन की अग्रिम सूचना दी जाएगी । -याज दरों और अन्य प्रभारों में वृद्धि, उन विनियामक/सरकारी प्राधिकरण द्वारा अधिरोपित, को छोड़कर, जो पृष्ठ-दर-पृष्ठ के आधार पर ह्गें, भविष्यलक्षी प्रभाव से की जाएगी ।


4. संवितरणोत्तर अनुवर्ती कार्रवाई

i) ऐसी पुनर्वित्त/वित्तीय सह्याता के प्रत्येक बार जारी किए जाने के संबध में पुनर्भुगतान की अनुसूची निधियों के संवितरण के पंद्रह् दिनों के भीतर भेजी जाएगी ।

ii) देय तारीख पर किस्त के पुनर्भुगतान एवं -याज के भुगतान को उपदर्शित करती मांग की अनुसूची की सूचना प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को कम से कम सात दिन पह्ले भेज दी जाएगी ।

iii) -याज एवं दांडिक -याज की संगणना रा.आ. -बैंक को वर्तमान नीति के अनुसार की जाएगी ।

iv) संवितरणोत्तर पर्यवेक्षण "ऋणदाता से संबधित" उस वास्तविक कठिनाई की डष्टि से रचनात्मक ह्गा जिनका सामना प्राथमिक ऋणदाता संस्थान करते है।

v) ऋण करार के अधीन भुगतान वापस लेने/तेज़ करने अथवा निष्पादनार्थ अथवा अतिरिक्त प्रतिभूतियां मांगने के निर्णय की सूचना प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों को, ऐसी अवधि, जो ऋण करार में विनिर्दिष्ट की जाए, अथवा एक उचित अवधि में, यदि उसमें ऐसा कोई प्रावधान नही है ,दी जाएगी।

vi) प्रतिभूतियां, ऋणों का भुगतान प्राप्त ह्ने पर अथवा ऋणों की वसूली पर किसी विधिसम्मत अधिकार अथवा किसी अन्य दावे, जो उधारकर्ताओं के विरुद्ध ऋणदाता का हो् सकता है, के लिए धारणाधिकार के अध्यधीन छोड़ी जाएंगी ।

5. सामान्य

प्राथमिक ऋणदाता संस्थानों द्वारा दी गई जानकारी सामान्यतया: गोपनीय रखी जाएगी तथा किसी तीसरे पक्षकार के सामने तक प्रकट नही की जाएगी जहां तक कि प्राथमिक ऋणदाता संस्थान इस पर सह्मत नही हो् जाता है । "तीसरा पक्षकार"- में सभी विधि-प्रवर्तनकारी अभिकरण, भारतीय रिज़र्व -बैंक, ऋण सूचना -यूरो, अन्य बैंक एवं वित्तीय संस्थान शामिल नही है ।

6. विषाद निवारण तंत्र

आवेदक/उधारकर्ता अपने विषाद निवारण के लिए, अभिह्ति वरिष्ठ अधिकारी, जिसका सम्पर्क सूत्र नीचे दिया है ,को आवश्यक दस्तावेज़, यदि कोई है ,के साथ अपने विषाद की प्रकृति स्पष्ट रूप से बताते हुए लिख सकते है। उसकी एक प्रति दिनांकित पावती सह्ति उधारकर्ता को लौटा दी जाएगी ।

अभिह्ति अधिकारी उसका शीघ्रता से समाधान करने के प्रयास करते हुए आवश्यक कार्रवाई की सूचना देगा।

अभिह्ति अधिकारी के विनिश्चय से विषादग्रस्त उधारकर्ता, नीचे दिए गए पते पर अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक मह्दोय को प्रधान कार्यालय में एक अभ्यावेदन प्रस्तुत कर सकता है् ।

अभिह्ति अधिकारी का सम्पर्क सूत्र :

कार्यपालक निदेशक,

राष्ट्रीय आवास -बैंक,
कोर 5ए, तृतीय तल, भारत पर्यावास केन्द्र,
लोधी रोड,
नई दिल्ली - 110 003
टेलीफोन : 011-2464 2263
एक्सटेंशन: 511,
फैक्स : 011-2464 6988

कॉपीराइट © 2012 राष्ट्रीय आवास बैंक